किष्किन्धाकाण्ड - Kishkindha-Kand

गोस्वामी तुलसीदास कृत रामचरितमानस के किष्किंधाकाण्ड में श्री राम - हनुमान और सुग्रीव मिलन, सुग्रीव का दुःख सुनना, बाली का उद्धार, सीता जी की खोज के लिए सभी का प्रस्थान और जामवंत का हनुमान को बल स्मरण कराना उल्लेखित है। किष्किंधाकाण्ड से जुड़े सभी घटनाक्रमों की सूची नीचे दी गई है। आप सभी घटना के बारे में उस पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं। 


किष्किन्धाकाण्ड मंगलाचरण
श्री रामजी से हनुमानजी का मिलना और श्री राम-सुग्रीव की मित्रता
सुग्रीव का दुःख सुनाना, बालि वध की प्रतिज्ञा, श्री रामजी का मित्र लक्षण वर्णन
सुग्रीव का वैराग्य
बालि-सुग्रीव युद्ध, बालि उद्धार, तारा का विलाप
तारा को श्री रामजी द्वारा उपदेश और सुग्रीव का राज्याभिषेक तथा अंगद को युवराज पद
वर्षा ऋतु वर्णन
शरद ऋतु वर्णन
श्री राम की सुग्रीव पर नाराजी, लक्ष्मणजी का कोप
सुग्रीव-राम संवाद और सीताजी की खोज के लिए बंदरों का प्रस्थान
गुफा में तपस्विनी के दर्शन, वानरों का समुद्र तट पर आना, सम्पाती से भेंट और बातचीत
समुद्र लाँघने का परामर्श, जाम्बवन्त का हनुमान्‌जी को बल याद दिलाकर उत्साहित करना, श्री राम-गुण का माहात्म्य

No comments:

Post a Comment

Archive