लंकाकाण्ड मंगलाचरण

षष्ठ सोपान- मंगलाचरण 

Descent Six - ManglaCharan

श्लोक:
Shlok:

* रामं कामारिसेव्यं भवभयहरणं कालमत्तेभसिंहं
योगीन्द्रं ज्ञानगम्यं गुणनिधिमजितं निर्गुणं निर्विकारम्।
मायातीतं सुरेशं खलवधनिरतं ब्रह्मवृन्दैकदेवं
वन्दे कन्दावदातं सरसिजनयनं देवमुर्वीशरूपम्॥1॥
भावार्थ:- कामदेव के शत्रु शिवजी के सेव्य, भव (जन्म-मृत्यु) के भय को हरने वाले, काल रूपी मतवाले हाथी के लिए सिंह के समान, योगियों के स्वामी (योगीश्वर), ज्ञान के द्वारा जानने योग्य, गुणों की निधि, अजेय, निर्गुण, निर्विकार, माया से परे, देवताओं के स्वामी, दुष्टों के वध में तत्पर, ब्राह्मणवृन्द के एकमात्र देवता (रक्षक), जल वाले मेघ के समान सुंदर श्याम, कमल के से नेत्र वाले, पृथ्वीपति (राजा) के रूप में परमदेव श्री रामजी की मैं वंदना करता हूँ॥1||

English: I adore Shri Ram, the supreme Deity, the object of worship even of Shiv (the Destroyer of Cupid), the Dispeller of the fear of rebirth, the lion to quell the mad  elephant in the form of Death, the Master of Yogis, attainable through immediate knowledge, the storehouse of good qualities, unconquerable, attributeless, immutable, beyond the realm of Maya, the Lord of celestials, intent on killing the evil-doers, the only protector of the Brahmanas, beautiful as a cloud laden with moisture, who has lotus-like eyes and appeared in the form of an earthly king.
* शंखेन्द्वाभमतीवसुन्दरतनुं शार्दूलचर्माम्बरं
कालव्यालकरालभूषणधरं गंगाशशांकप्रियम्।
काशीशं कलिकल्मषौघशमनं कल्याणकल्पद्रुमं
नौमीड्यं गिरिजापतिं गुणनिधिं कन्दर्पहं शंकरम्॥2॥
भावार्थ:- शंख और चंद्रमा की सी कांति के अत्यंत सुंदर शरीर वाले, व्याघ्रचर्म के वस्त्र वाले, काल के समान (अथवा काले रंग के) भयानक सर्पों का भूषण धारण करने वाले, गंगा और चंद्रमा के प्रेमी, काशीपति, कलियुग के पाप समूह का नाश करने वाले, कल्याण के कल्पवृक्ष, गुणों के निधान और कामदेव को भस्म करने वाले, पार्वती पति वन्दनीय श्री शंकरजी को मैं नमस्कार करता हूँ॥2||

English: I glorify Shankara , the Lord of Kasi(the modern Varanasi), the Consort of Girija ( Himalaya`s Daughter), the storehouse of good qualities, the Destroyer of Cupid, worthy of all praise, shining like a conchshell or the moon, most handsome of person, clad in a tiger’s skin, decked with dreadful ornaments in the shape of deadly serpents, fond of the Ganga and the moon, the allayer of the sins of the Kali age and the celestial tree yielding the fruit of Blessedness for the mere asking.
यो ददाति सतां शम्भुः कैवल्यमपि दुर्लभम्।
खलानां दण्डकृद्योऽसौ शंकरः शं तनोतु मे॥3॥
भावार्थ:- जो सत् पुरुषों को अत्यंत दुर्लभ कैवल्यमुक्ति तक दे डालते हैं और जो दुष्टों को दण्ड देने वाले हैं, वे कल्याणकारी श्री शम्भु मेरे कल्याण का विस्तार करें॥3||

English: May Lord Shambhu, the bestower of blessings, who confers on the virtuous even final beatitude, which is so difficult to obtain, and who punishes the evil-doers, extend His blessings to me.
दोहा :
Doha:

* लव निमेष परमानु जुग बरष कलप सर चंड।
भजसि न मन तेहि राम को कालु जासु कोदंड॥
भावार्थ:- लव, निमेष, परमाणु, वर्ष, युग और कल्प जिनके प्रचण्ड बाण हैं और काल जिनका धनुष है, हे मन! तू उन श्री रामजी को क्यों नहीं भजता?

English: O my soul, who do you not worship Shri Ram, who has the indivisible Time for His bow and the various divisions of time such as a Paramanu,* a twinkling, a moment, a year, an age and a cycle for His fierce arrows? 




No comments:

Post a Comment

Archive