मन्दोदरी का फिर रावण को समझाना और श्री राम की महिमा कहना

* सयन करहु निज निज गृह जाईं। गवने भवन सकल सिर नाई॥
मंदोदरी सोच उर बसेऊ। जब ते श्रवनपूर महि खसेऊ॥3॥
भावार्थ:- अपने-अपने घर जाकर सो रहो (डरने की कोई बात नहीं है) तब सब लोग सिर नवाकर घर गए। जब से कर्णफूल पृथ्वी पर गिरा, तब से मंदोदरी के हृदय में सोच बस गया॥3||

English: Therefore, return each to your own home and retire.” Accordingly all bowed their head and returned home. But anxiety lodged in Mandodari's hearts ever since her earrings dropped to the ground.
* सजल नयन कह जुग कर जोरी। सुनहु प्रानपति बिनती मोरी॥
कंत राम बिरोध परिहरहू। जानि मनुज जनि हठ लग धरहू॥4॥
भावार्थ:- नेत्रों में जल भरकर, दोनों हाथ जोड़कर वह (रावण से) कहने लगी- हे प्राणनाथ! मेरी विनती सुनिए। हे प्रियतम! श्री राम से विरोध छोड़ दीजिए। उन्हें मनुष्य जानकर मन में हठ न पकड़े रहिए॥4||

English: With eyes full of tears and joining both her palms she said, “O lord of my life, listen to my prayer. My beloved, cease hostility with Shri Ram and have no more of obstinacy in your heart taking Him to be a mere mortal.”
दोहा :
Doha:
* बिस्वरूप रघुबंस मनि करहु बचन बिस्वासु।
लोक कल्पना बेद कर अंग अंग प्रति जासु॥14॥
भावार्थ:- मेरे इन वचनों पर विश्वास कीजिए कि ये रघुकुल के शिरोमणि श्री रामचंद्रजी विश्व रूप हैं- (यह सारा विश्व उन्हीं का रूप है)। वेद जिनके अंग-अंग में लोकों की कल्पना करते हैं॥14||

English: “Believe my word that Shri Ram (the Jewel of Raghu’s race) Himself is manifested in the form of this universe and that the Vedas conceive of every limb of His as a distinct sphere.”
चौपाई :
Chaupai:
* पद पाताल सीस अज धामा। अपर लोक अँग अँग बिश्रामा॥
भृकुटि बिलास भयंकर काला। नयन दिवाकर कच घन माला॥1॥
भावार्थ:- पाताल (जिन विश्व रूप भगवान्‌ का) चरण है, ब्रह्म लोक सिर है, अन्य (बीच के सब) लोकों का विश्राम (स्थिति) जिनके अन्य भिन्न-भिन्न अंगों पर है। भयंकर काल जिनका भृकुटि संचालन (भौंहों का चलना) है। सूर्य नेत्र हैं, बादलों का समूह बाल है॥1||

English: The subterranean regions (Pataal) are His feet and the abode of Brahma His head; while the other (intermediate) spheres are located in His other limbs. Terrible Death is the mere contraction of His eyebrows, the sun is His eye and the mass of clouds His locks.
* जासु घ्रान अस्विनीकुमारा। निसि अरु दिवस निमेष अपारा॥
श्रवन दिसा दस बेद बखानी। मारुत स्वास निगम निज बानी॥2॥
भावार्थ:- अश्विनी कुमार जिनकी नासिका हैं, रात और दिन जिनके अपार निमेष (पलक मारना और खोलना) हैं। दसों दिशाएँ कान हैं, वेद ऐसा कहते हैं। वायु श्वास है और वेद जिनकी अपनी वाणी है॥2||

English: The twin-born gods Ashwini Kumar (the celestial physicians) are His nostrils and the alternating days and nights constitute the repeated twinkling of His eyelids; while the ten quarters of the heavens are His ears: so declare the Vedas. The winds are His breath and the Vedas, His own speech;
* अधर लोभ जम दसन कराला। माया हास बाहु दिगपाला॥
आनन अनल अंबुपति जीहा। उतपति पालन प्रलय समीहा॥3॥
भावार्थ:- लोभ जिनका अधर (होठ) है, यमराज भयानक दाँत हैं। माया हँसी है, दिक्पाल भुजाएँ हैं। अग्नि मुख है, वरुण जीभ है। उत्पत्ति, पालन और प्रलय जिनकी चेष्टा (क्रिया) है॥3||

English: greed is His lower lip and Yam (the god who sits in judgment on the dead), His dreadful teeth; MŒyŒ (cosmic illusion) is His laughter and the regents of the ten quarters, His arms; fire is His mouth and Varun (the god presiding over the waters), His tongue; while the creation, preservation and destruction of the universe are His gestures.
* रोम राजि अष्टादस भारा। अस्थि सैल सरिता नस जारा॥
उदर उदधि अधगो जातना। जगमय प्रभु का बहु कलपना॥4॥
भावार्थ:- अठारह प्रकार की असंख्य वनस्पतियाँ जिनकी रोमावली हैं, पर्वत अस्थियाँ हैं, नदियाँ नसों का जाल है, समुद्र पेट है और नरक जिनकी नीचे की इंद्रियाँ हैं। इस प्रकार प्रभु विश्वमय हैं, अधिक कल्पना (ऊहापोह) क्या की जाए?॥4||

English: The eighteen principal species of the vegetable kingdom constitute the line of hair on His belly, the mountains are His bones and the rivers represent the network of His veins. The ocean is His belly and the inferno, His organs of urination and excretion. In short, the universe is a manifestation of the Lord and it is no use going into further details.
दोहा :
Doha:
अहंकार सिव बुद्धि अज मन ससि चित्त महान।
मनुज बास सचराचर रूप राम भगवान॥15 क॥
भावार्थ:- शिव जिनका अहंकार हैं, ब्रह्मा बुद्धि हैं, चंद्रमा मन हैं और महान (विष्णु) ही चित्त हैं। उन्हीं चराचर रूप भगवान श्री रामजी ने मनुष्य रूप में निवास किया है॥15 (क)||

English: “Lord Shiv is His ego, Brahm His reason, the moon His mind and the great Vishnu is His faculty of understanding. It is the same Lord Shri Ram, manifested in the form of this animate and inanimate creation,
* अस बिचारि सुनु प्रानपति प्रभु सन बयरु बिहाइ।
प्रीति करहु रघुबीर पद मम अहिवात न जाइ॥15 ख॥
भावार्थ:- हे प्राणपति सुनिए, ऐसा विचार कर प्रभु से वैर छोड़कर श्री रघुवीर के चरणों में प्रेम कीजिए, जिससे मेरा सुहाग न जाए॥15 (ख)||

English: who has assumed a human semblance. Pondering thus, hear me, O lord of my life: cease hostility with the Lord and cultivate devotion to the feet of Shri Ram (the Hero of Raghu’s line) so that my good-luck may not desert me.”
चौपाई :
Chaupai:
* बिहँसा नारि बचन सुनि काना। अहो मोह महिमा बलवाना॥
नारि सुभाउ सत्य सब कहहीं। अवगुन आठ सदा उर रहहीं॥1॥
भावार्थ:- पत्नी के वचन कानों से सुनकर रावण खूब हँसा (और बोला-) अहो! मोह (अज्ञान) की महिमा बड़ी बलवान्‌ है। स्त्री का स्वभाव सब सत्य ही कहते हैं कि उसके हृदय में आठ अवगुण सदा रहते हैं-॥1||

English: Ravan laughed when he heard the words of his wife. “Oh, how mighty is the power of infatuation! They rightly observe in regard to the character of a woman that the following eight evils ever abide in her heart:
* साहस अनृत चपलता माया। भय अबिबेक असौच अदाया॥
रिपु कर रूप सकल तैं गावा। अति बिसाल भय मोहि सुनावा॥2॥
भावार्थ:- साहस, झूठ, चंचलता, माया (छल), भय (डरपोकपन) अविवेक (मूर्खता), अपवित्रता और निर्दयता। तूने शत्रु का समग्र (विराट) रूप गाया और मुझे उसका बड़ा भारी भय सुनाया॥2||

English: recklessness, mendacity, fickleness, deceit, timidity, indiscretion, impurity and callousness. You have described the enemy’s cosmic form and thus told me a most alarming story.
* सो सब प्रिया सहज बस मोरें। समुझि परा अब प्रसाद तोरें॥
जानिउँ प्रिया तोरि चतुराई। एहि बिधि कहहु मोरि प्रभुताई॥3॥
भावार्थ:- हे प्रिये! वह सब (यह चराचर विश्व तो) स्वभाव से ही मेरे वश में है। तेरी कृपा से मुझे यह अब समझ पड़ा। हे प्रिये! तेरी चतुराई मैं जान गया। तू इस प्रकार (इसी बहाने) मेरी प्रभुता का बखान कर रही है॥3||

English: But all that (whatever is comprised in that cosmic form), my beloved, is naturally under my control; it is by your grace that this has become clear to me now. I have come to know your ingenuity, my dear; for in this way you have told my greatness.
* तव बतकही गूढ़ मृगलोचनि। समुझत सुखद सुनत भय मोचनि॥
मंदोदरि मन महुँ अस ठयऊ। पियहि काल बस मति भ्रम भयउ॥4॥
भावार्थ:- हे मृगनयनी! तेरी बातें बड़ी गूढ़ (रहस्यभरी) हैं, समझने पर सुख देने वाली और सुनने से भय छुड़ाने वाली हैं। मंदोदरी ने मन में ऐसा निश्चय कर लिया कि पति को कालवश मतिभ्रम हो गया है॥4||

English: Your words, O fawn-eyed lady, are profound: they afford delight when understood and dispel all fear even when heard. Mandodari was now convinced at heart that her husband’s impending death had deluded him.
दोहा :
Doha:
* ऐहि बिधि करत बिनोद बहु प्रात प्रगट दसकंध।
सहज असंक लंकपति सभाँ गयउ मद अंध॥16 क॥
भावार्थ:- इस प्रकार (अज्ञानवश) बहुत से विनोद करते हुए रावण को सबेरा हो गया। तब स्वभाव से ही निडर और घमंड में अंधा लंकापति सभा में गया॥16 (क)||

English: While Ravan was laughing and joking in diverse ways as mentioned above, the day broke and the king of Lanka, who was intrepid by nature and further blinded by pride, entered the court.
सोरठा :
Sortha:
* फूलइ फरइ न बेत जदपि सुधा बरषहिं जलद।
मूरुख हृदयँ न चेत जौं गुर मिलहिं बिरंचि सम॥16 ख॥
भावार्थ:- यद्यपि बादल अमृत सा जल बरसाते हैं तो भी बेत फूलता-फलता नहीं। इसी प्रकार चाहे ब्रह्मा के समान भी ज्ञानी गुरु मिलें, तो भी मूर्ख के हृदय में चेत (ज्ञान) नहीं होता॥16 (ख)||

English: The reed neither blossoms nor bears fruit even though the clouds rain nectar on it. Similarly the light of wisdom would never dawn on a fool even though he may have a teacher like Viranchi (Brahma).




No comments:

Post a Comment

Archive