दूत का रावण को समझाना और लक्ष्मणजी का पत्र देना

दोहा :
Doha:
* की भइ भेंट कि फिरि गए श्रवन सुजसु सुनि मोर।
कहसि न रिपु दल तेज बल बहुत चकित चित तोर ॥53॥
भावार्थ:-उनसे तेरी भेंट हुई या वे कानों से मेरा सुयश सुनकर ही लौट गए? शत्रु सेना का तेज और बल बताता क्यों नहीं? तेरा चित्त बहुत ही चकित (भौंचक्का सा) हो रहा है॥53||

English: Did you meet them or did they beat their retreat on hearing my fair renown? Why should you not speak of the enemy’s prowess and strength; your wits seem utterly dazed.”
चौपाई :
Chaupai:

* नाथ कृपा करि पूँछेहु जैसें। मानहु कहा क्रोध तजि तैसें॥
मिला जाइ जब अनुज तुम्हारा। जातहिं राम तिलक तेहि सारा॥1॥
भावार्थ:-(दूत ने कहा-) हे नाथ! आपने जैसे कृपा करके पूछा है, वैसे ही क्रोध छोड़कर मेरा कहना मानिए (मेरी बात पर विश्वास कीजिए)। जब आपका छोटा भाई श्री रामजी से जाकर मिला, तब उसके पहुँचते ही श्री रामजी ने उसको राजतिलक कर दिया॥1||

English: “My lord, just as you have so kindly put these questions to me, so do you believe what I say and be not angry. No sooner had your younger brother (Vibhishan) met Shri Rama then the latter applied the sacred mark of sovereignty on his forehead.
* रावन दूत हमहि सुनि काना। कपिन्ह बाँधि दीन्हें दुख नाना॥
श्रवन नासिका काटैं लागे। राम सपथ दीन्हें हम त्यागे॥2॥
भावार्थ:-हम रावण के दूत हैं, यह कानों से सुनकर वानरों ने हमें बाँधकर बहुत कष्ट दिए, यहाँ तक कि वे हमारे नाक-कान काटने लगे। श्री रामजी की शपथ दिलाने पर कहीं उन्होंने हमको छोड़ा॥2||

English: When the monkeys heard that we were Ravan`s (Your majesty’s) spies, they bound us and persecuted us in many ways. They were about to cut off our ears and nose; but when we adjured them by Ram not to do so, they let us go.
* पूँछिहु नाथ राम कटकाई। बदन कोटि सत बरनि न जाई॥
नाना बरन भालु कपि धारी। बिकटानन बिसाल भयकारी॥3॥
भावार्थ:-हे नाथ! आपने श्री रामजी की सेना पूछी, सो वह तो सौ करोड़ मुखों से भी वर्णन नहीं की जा सकती। अनेकों रंगों के भालु और वानरों की सेना है, जो भयंकर मुख वाले, विशाल शरीर वाले और भयानक हैं॥3||

English: we adjured them by RŒma not to do so, they let us go. You have enquired, my lord, about Ram`s army; but a thousand million tongues would fail to describe it. It is a host of bears and monkeys of diverse hue and gruesome visage, huge and terrible.
* जेहिं पुर दहेउ हतेउ सुत तोरा। सकल कपिन्ह महँ तेहि बलु थोरा॥
अमित नाम भट कठिन कराला। अमित नाग बल बिपुल बिसाला॥4॥
भावार्थ:-जिसने नगर को जलाया और आपके पुत्र अक्षय कुमार को मारा, उसका बल तो सब वानरों में थोड़ा है। असंख्य नामों वाले बड़े ही कठोर और भयंकर योद्धा हैं। उनमें असंख्य हाथियों का बल है और वे बड़े ही विशाल हैं॥4||

English: He who burnt your capital and killed your son (Akshay) is the weakest of all the monkeys. The army includes innumerable champions with as many names, fierce and unyielding monsters of vast bulk and possessing the strength of numberless elephants.”
दोहा :
Doha:

* द्विबिद मयंद नील नल अंगद गद बिकटासि।
दधिमुख केहरि निसठ सठ जामवंत बलरासि॥54॥
भावार्थ:-द्विविद, मयंद, नील, नल, अंगद, गद, विकटास्य, दधिमुख, केसरी, निशठ, शठ और जाम्बवान् ये सभी बल की राशि हैं॥54

English: “Dvivida, Mainda, Nila, Nala, Angad, Gada, Vikatasya, Dadhimukha, Kesari, Nisatha, Satha and the powerful Jambavan are some of them.

चौपाई :
Chaupai:

* ए कपि सब सुग्रीव समाना। इन्ह सम कोटिन्ह गनइ को नाना॥
राम कृपाँ अतुलित बल तिन्हहीं। तृन समान त्रैलोकहि गनहीं॥1॥
भावार्थ:-ये सब वानर बल में सुग्रीव के समान हैं और इनके जैसे (एक-दो नहीं) करोड़ों हैं, उन बहुत सो को गिन ही कौन सकता है। श्री रामजी की कृपा से उनमें अतुलनीय बल है। वे तीनों लोकों को तृण के समान (तुच्छ) समझते हैं॥1||

English: “Each of these monkeys is as mighty as Sugriv (the king) and there are tens of millions like them; who can dare count them? By the grace of Shri Ram they are unequalled in strength and reckon the three spheres of creation as of no more account than a blade of grass.
* अस मैं सुना श्रवन दसकंधर। पदुम अठारह जूथप बंदर॥
नाथ कटक महँ सो कपि नाहीं। जो न तुम्हहि जीतै रन माहीं॥2॥
भावार्थ:-हे दशग्रीव! मैंने कानों से ऐसा सुना है कि अठारह पद्म तो अकेले वानरों के सेनापति हैं। हे नाथ! उस सेना में ऐसा कोई वानर नहीं है, जो आपको रण में न जीत सके॥2||

English: I have heard it said, Ravana, that the commanders of the various monkey-troops alone number eighteen thousand billions. In the whole host, my lord, there is not a single monkey who would not conquer you in battle.


* परम क्रोध मीजहिं सब हाथा। आयसु पै न देहिं रघुनाथा॥
सोषहिं सिंधु सहित झष ब्याला। पूरहिं न त भरि कुधर बिसाला॥3॥
भावार्थ:-सब के सब अत्यंत क्रोध से हाथ मीजते हैं। पर श्री रघुनाथजी उन्हें आज्ञा नहीं देते। हम मछलियों और साँपों सहित समुद्र को सोख लेंगे। नहीं तो बड़े-बड़े पर्वतों से उसे भरकर पूर (पाट) देंगे॥3||

English: They are all wringing their hands in excess of passion; but the Lord of the Raghus does not order them (to march).” ‘We shall suck the ocean dry with all its fish and serpents or fill it up with huge mountains.
* मर्दि गर्द मिलवहिं दससीसा। ऐसेइ बचन कहहिं सब कीसा॥
गर्जहिं तर्जहिं सहज असंका। मानहुँ ग्रसन चहत हहिं लंका॥4॥
भावार्थ:-और रावण को मसलकर धूल में मिला देंगे। सब वानर ऐसे ही वचन कह रहे हैं। सब सहज ही निडर हैं, इस प्रकार गरजते और डपटते हैं मानो लंका को निगल ही जाना चाहते हैं॥4||

English: Nay, we shall crush the ten-headed Ravana and reduce him to dust.’ Such were the words that all the monkeys uttered. Fearless by nature, they roared and bullied as if they would devour Lanka.
दोहा :
Doha:

* सहज सूर कपि भालु सब पुनि सिर पर प्रभु राम।
रावन काल कोटि कहुँ जीति सकहिं संग्राम॥55॥
भावार्थ:-सब वानर-भालू सहज ही शूरवीर हैं फिर उनके सिर पर प्रभु (सर्वेश्वर) श्री रामजी हैं। हे रावण! वे संग्राम में करोड़ों कालों को जीत सकते हैं॥55||

English: “All the monkeys and bears are born warriors and, besides, they have Lord Shri Ram over  their  head. Ravana  they  can  conquer  in  battle  even  millions  of  Yamas (death personified).”
चौपाई :
Chaupai:

* राम तेज बल बुधि बिपुलाई। सेष सहस सत सकहिं न गाई॥
सक सर एक सोषि सत सागर। तव भ्रातहि पूँछेउ नय नागर॥1॥
भावार्थ:-श्री रामचंद्रजी के तेज (सामर्थ्य), बल और बुद्धि की अधिकता को लाखों शेष भी नहीं गा सकते। वे एक ही बाण से सैकड़ों समुद्रों को सोख सकते हैं, परंतु नीति निपुण श्री रामजी ने (नीति की रक्षा के लिए) आपके भाई से उपाय पूछा॥1||

English: “A hundred thousand Sesas would fail to describe the greatness of Shri Ram`s valour, strength and intelligence. With a single shaft He could dry up a hundred seas; yet, being a master of propriety, He consulted your brother (Vibhishan) and in accordance
* तासु बचन सुनि सागर पाहीं। मागत पंथ कृपा मन माहीं॥
सुनत बचन बिहसा दससीसा। जौं असि मति सहाय कृत कीसा॥2॥
भावार्थ:-उनके (आपके भाई के) वचन सुनकर वे (श्री रामजी) समुद्र से राह माँग रहे हैं, उनके मन में कृपा भी है (इसलिए वे उसे सोखते नहीं)। दूत के ये वचन सुनते ही रावण खूब हँसा (और बोला-) जब ऐसी बुद्धि है, तभी तो वानरों को सहायक बनाया है!॥2||

English: and in accordance with his suggestion He is asking passage of the ocean with a heart full of compassion.” The ten-headed monster laughed to hear these words. “It was because of such wits that he (Ram) took monkeys for his allies. 
* सहज भीरु कर बचन दृढ़ाई। सागर सन ठानी मचलाई॥
मूढ़ मृषा का करसि बड़ाई। रिपु बल बुद्धि थाह मैं पाई॥3॥
भावार्थ:-स्वाभाविक ही डरपोक विभीषण के वचन को प्रमाण करके उन्होंने समुद्र से मचलना (बालहठ) ठाना है। अरे मूर्ख! झूठी बड़ाई क्या करता है? बस, मैंने शत्रु (राम) के बल और बुद्धि की थाह पा ली॥3||

English: That is why, confirming the advice of my brother, who is a born coward, he is persistent in demanding of the ocean (like a pet child) something which is impossible. Fool, why do you bestow false praise on the enemy, whose might and wisdom I have fathomed. 
* सचिव सभीत बिभीषन जाकें। बिजय बिभूति कहाँ जग ताकें॥
सुनि खल बचन दूत रिस बाढ़ी। समय बिचारि पत्रिका काढ़ी॥4॥
भावार्थ:- जिसके डरपोंक बिभीषण से मंत्री हैं उसके विजय और विभूति कहाँ? || खल रावनके ये वचन सुनकर दूतको बड़ा क्रोध आया| इससे उसने अवसर जानकर लक्ष्मणके हाथकी पत्री निकाली||

English: Triumph and glory in this world are inaccessible to him who has a cowardly counsellor like Vibhishan.” The spy waxed angry to hear the words of the wicked monarch and taking it to be an opportune moment
* रामानुज दीन्हीं यह पाती। नाथ बचाइ जुड़ावहु छाती॥
बिहसि बाम कर लीन्हीं रावन। सचिव बोलि सठ लाग बचावन॥5॥
भावार्थ:-(और कहा-) श्री रामजी के छोटे भाई लक्ष्मण ने यह पत्रिका दी है। हे नाथ! इसे बचवाकर छाती ठंडी कीजिए। रावण ने हँसकर उसे बाएँ हाथ से लिया और मंत्री को बुलवाकर वह मूर्ख उसे बँचाने लगा॥5||

English: he took out the letter (from Lakshaman). “Shri Ram`s younger brother (Lakshaman) gave me this note; have it read, my lord, and soothe your heart.” Ravana laughed when he took the letter in his left hand; and summoning his minister, the fool asked him to read it out.
दोहा :
Doha:

* बातन्ह मनहि रिझाइ सठ जनि घालसि कुल खीस।
राम बिरोध न उबरसि सरन बिष्नु अज ईस॥56क॥
भावार्थ:-(पत्रिका में लिखा था-) अरे मूर्ख! केवल बातों से ही मन को रिझाकर अपने कुल को नष्ट-भ्रष्ट न कर। श्री रामजी से विरोध करके तू विष्णु, ब्रह्मा और महेश की शरण जाने पर भी नहीं बचेगा॥56 (क)||

English: Beguiling your mind with flattering words, O fool, do not bring your race to utter ruin. By courting enmity with Shri Ram you will not be spared even though you seek the protection of Vishnu, Brahma or Shiv.
* की तजि मान अनुज इव प्रभु पद पंकज भृंग।
होहि कि राम सरानल खल कुल सहित पतंग॥56ख॥
भावार्थ:-या तो अभिमान छोड़कर अपने छोटे भाई विभीषण की भाँति प्रभु के चरण कमलों का भ्रमर बन जा। अथवा रे दुष्ट! श्री रामजी के बाण रूपी अग्नि में परिवार सहित पतिंगा हो जा (दोनों में से जो अच्छा लगे सो कर)॥56 (ख)||

English: Therefore, abandoning pride, like your younger brother, either seek the lotus feet of the Lord as a bee or be consumed with your family like a moth into the fire of Shri Sam`s shafts, O wretch.
चौपाई :
Chaupai:

* सुनत सभय मन मुख मुसुकाई। कहत दसानन सबहि सुनाई॥
भूमि परा कर गहत अकासा। लघु तापस कर बाग बिलासा॥1॥
भावार्थ:-पत्रिका सुनते ही रावण मन में भयभीत हो गया, परंतु मुख से (ऊपर से) मुस्कुराता हुआ वह सबको सुनाकर कहने लगा- जैसे कोई पृथ्वी पर पड़ा हुआ हाथ से आकाश को पकड़ने की चेष्टा करता हो, वैसे ही यह छोटा तपस्वी (लक्ष्मण) वाग्विलास करता है (डींग हाँकता है)॥1||

English: Ravana was dismayed at heart as he listened to the above message but wore a feigned smile on his face and spoke aloud for all to hear: “The younger hermit’s grand eloquence is just like attempt of a man lying on the ground to clutch with hands the vault of heaven.”
* कह सुक नाथ सत्य सब बानी। समुझहु छाड़ि प्रकृति अभिमानी॥
सुनहु बचन मम परिहरि क्रोधा। नाथ राम सन तजहु बिरोधा॥2॥
भावार्थ:-शुक (दूत) ने कहा- हे नाथ! अभिमानी स्वभाव को छोड़कर (इस पत्र में लिखी) सब बातों को सत्य समझिए। क्रोध छोड़कर मेरा वचन सुनिए। हे नाथ! श्री रामजी से वैर त्याग दीजिए॥2||

English: Said Skuka, “My lord, giving up haughtiness take every word of it as true. Abandon passion and give ear to my advice: my lord, avoid a clash with Shri Ram. The Hero of Raghu’s line is exceedingly mild of disposition, 
* अति कोमल रघुबीर सुभाऊ। जद्यपि अखिल लोक कर राऊ॥
मिलत कृपा तुम्ह पर प्रभु करिही। उर अपराध न एकउ धरिही॥3॥
भावार्थ:-यद्यपि श्री रघुवीर समस्त लोकों के स्वामी हैं, पर उनका स्वभाव अत्यंत ही कोमल है। मिलते ही प्रभु आप पर कृपा करेंगे और आपका एक भी अपराध वे हृदय में नहीं रखेंगे॥3||

English: even though He is the lord of the entire universe. The Lord will shower His grace on you the moment you meet Him, and will not take to heart even a single offence of yours.
* जनकसुता रघुनाथहि दीजे। एतना कहा मोर प्रभु कीजे॥
जब तेहिं कहा देन बैदेही। चरन प्रहार कीन्ह सठ तेही॥4॥
भावार्थ:-जानकीजी श्री रघुनाथजी को दे दीजिए। हे प्रभु! इतना कहना मेरा कीजिए। जब उस (दूत) ने जानकीजी को देने के लिए कहा, तब दुष्ट रावण ने उसको लात मारी॥4||

English: Pray, restore Janaka’s Daughter to Shri Ram; at least concede this request of mine.” When Suka asked him to surrender Videha’s Daughter, the wretch kicked him. 
* नाइ चरन सिरु चला सो तहाँ। कृपासिंधु रघुनायक जहाँ॥
करि प्रनामु निज कथा सुनाई। राम कृपाँ आपनि गति पाई॥5
भावार्थ:-वह भी (विभीषण की भाँति) चरणों में सिर नवाकर वहीं चला, जहाँ कृपासागर श्री रघुनाथजी थे। प्रणाम करके उसने अपनी कथा सुनाई और श्री रामजी की कृपा से अपनी गति (मुनि का स्वरूप) पाई॥5||

English: Shuk, however, bowed his head at Ravan`s feet and proceeded to the place where the all-merciful Lord of the Raghus was. Making obeisance to the Lord he told Him all about himself and by Ram`s grace recovered his original state.
* रिषि अगस्ति कीं साप भवानी। राछस भयउ रहा मुनि ग्यानी॥
बंदि राम पद बारहिं बारा। मुनि निज आश्रम कहुँ पगु धारा॥6॥
भावार्थ:-(शिवजी कहते हैं-) हे भवानी! वह ज्ञानी मुनि था, अगस्त्य ऋषि के शाप से राक्षस हो गया था। बार-बार श्री रामजी के चरणों की वंदना करके वह मुनि अपने आश्रम को चला गया॥6||

English: He was an enlightened sage; it was by Agastya’s curse, Parvati, that he had been transformed into a demon. Adoring Shri Ram`s feet again and again the sage returned to his hermitage.



No comments:

Post a Comment

Archive