श्रीराम जी का वानरों की सेना के साथ चलकर समुद्र तट पर पहुँचना

दोहा :
Doha:
* कपिपति बेगि बोलाए आए जूथप जूथ।
नाना बरन अतुल बल बानर भालु बरूथ॥34॥
भावार्थ:-वानरराज सुग्रीव ने शीघ्र ही वानरों को बुलाया, सेनापतियों के समूह आ गए। वानर-भालुओं के झुंड अनेक रंगों के हैं और उनमें अतुलनीय बल है॥34॥

English: Sugriv (the lord of the monkeys) quickly summoned the commanders of the various troops and they presented themselves in multitudes. The troops of monkeys and bears, though varying in colour, were all unequalled in strength.
चौपाई :
Chaupai:
* प्रभु पद पंकज नावहिं सीसा। गर्जहिं भालु महाबल कीसा॥
देखी राम सकल कपि सेना। चितइ कृपा करि राजिव नैना॥1॥
भावार्थ:-वे प्रभु के चरण कमलों में सिर नवाते हैं। महान् बलवान् रीछ और वानर गरज रहे हैं। श्री रामजी ने वानरों की सारी सेना देखी। तब कमल नेत्रों से कृपापूर्वक उनकी ओर दृष्टि डाली॥1॥

English: The mighty bears and monkeys bowed their head at the Lord’s lotus feet and roared. Shri Ram surveyed the whole monkey host and cast on them His gracious lotus-like eyes.




* राम कृपा बल पाइ कपिंदा। भए पच्छजुत मनहुँ गिरिंदा॥
हरषि राम तब कीन्ह पयाना। सगुन भए सुंदर सुभ नाना॥2॥
भावार्थ:-राम कृपा का बल पाकर श्रेष्ठ वानर मानो पंखवाले बड़े पर्वत हो गए। तब श्री रामजी ने हर्षित होकर प्रस्थान (कूच) किया। अनेक सुंदर और शुभ शकुन हुए॥2॥

English: Emboldened by His grace the monkey chiefs vied as it were with huge mountains equipped with wings. Shri Ram then sallied forth glad of heart and many were the delightful and auspicious omens that occurred to Him.
* जासु सकल मंगलमय कीती। तासु पयान सगुन यह नीती॥
प्रभु पयान जाना बैदेहीं। फरकि बाम अँग जनु कहि देहीं॥3॥
भावार्थ:-जिनकी कीर्ति सब मंगलों से पूर्ण है, उनके प्रस्थान के समय शकुन होना, यह नीति है (लीला की मर्यादा है)। प्रभु का प्रस्थान जानकीजी ने भी जान लिया। उनके बाएँ अंग फड़क-फड़ककर मानो कहे देते थे (कि श्री रामजी आ रहे हैं)॥3॥

English: It was in the fitness of things that good omens should appear at the time of His departure (on an expedition) whose glory itself embodies all blessings. Videha's Daughter came to know of the Lord’s march; the throbbing of Her left limbs apprised Her of the same as it were.
* जोइ जोइ सगुन जानकिहि होई। असगुन भयउ रावनहिं सोई॥
चला कटकु को बरनैं पारा। गर्जहिं बानर भालु अपारा॥4॥
भावार्थ:-जानकीजी को जो-जो शकुन होते थे, वही-वही रावण के लिए अपशकुन हुए। सेना चली, उसका वर्णन कौन कर सकता है? असंख्य वानर और भालू गर्जना कर रहे हैं॥4॥

English: But what were good omens for Janak's Daughter foreboded evil for Raavan. Who could adequately describe the army as it marched with its countless monkeys and bears roaring.


* नख आयुध गिरि पादपधारी। चले गगन महि इच्छाचारी॥
केहरिनाद भालु कपि करहीं। डगमगाहिं दिग्गज चिक्करहीं॥5॥
भावार्थ:-नख ही जिनके शस्त्र हैं, वे इच्छानुसार (सर्वत्र बेरोक-टोक) चलने वाले रीछ-वानर पर्वतों और वृक्षों को धारण किए कोई आकाश मार्ग से और कोई पृथ्वी पर चले जा रहे हैं। वे सिंह के समान गर्जना कर रहे हैं। (उनके चलने और गर्जने से) दिशाओं के हाथी विचलित होकर चिंग्घाड़ रहे हैं॥5॥

English: With no  weapon other than their sharp claws, they carried rocks and trees (that they had uprooted on the way) and marched now in the air and now on land, for they had unhampered motion everywhere. The bears and monkeys roared like lions as they marched, while the elephants guarding the eight cardinal points shook and trumpeted.
छंद :
Chhand:
* चिक्करहिं दिग्गज डोल महि गिरि लोल सागर खरभरे।
मन हरष सभ गंधर्ब सुर मुनि नाग किंनर दुख टरे॥
कटकटहिं मर्कट बिकट भट बहु कोटि कोटिन्ह धावहीं।
जय राम प्रबल प्रताप कोसलनाथ गुन गन गावहीं॥1॥
भावार्थ:-दिशाओं के हाथी चिंग्घाड़ने लगे, पृथ्वी डोलने लगी, पर्वत चंचल हो गए (काँपने लगे) और समुद्र खलबला उठे। गंधर्व, देवता, मुनि, नाग, किन्नर सब के सब मन में हर्षित हुए' कि (अब) हमारे दुःख टल गए। अनेकों करोड़ भयानक वानर योद्धा कटकटा रहे हैं और करोड़ों ही दौड़ रहे हैं। 'प्रबल प्रताप कोसलनाथ श्री रामचंद्रजी की जय हो' ऐसा पुकारते हुए वे उनके गुणसमूहों को गा रहे हैं॥1॥

English: The elephants of the eight cardinal points trumpeted, the earth rocked, the mountains trembled and the oceans were agitated. The Gandharvs, gods, sages, Naags and Kinnars, all felt delighted at heart to perceive that their troubles were over. Myriads of formidable monkey warriors gnashed their teeth (in a bellicose mood); while many more millions dashed forward crying “Glory to Shri Ram, Kaushal's lord, of mighty valour ” and hymning His praises.
* सहि सक न भार उदार अहिपति बार बारहिं मोहई।
गह दसन पुनि पुनि कमठ पृष्ठ कठोर सो किमि सोहई॥
रघुबीर रुचिर प्रयान प्रस्थिति जानि परम सुहावनी।
जनु कमठ खर्पर सर्पराज सो लिखत अबिचल पावनी॥2॥
भावार्थ:-उदार (परम श्रेष्ठ एवं महान्) सर्पराज शेषजी भी सेना का बोझ नहीं सह सकते, वे बार-बार मोहित हो जाते (घबड़ा जाते) हैं और पुनः-पुनः कच्छप की कठोर पीठ को दाँतों से पकड़ते हैं। ऐसा करते (अर्थात् बार-बार दाँतों को गड़ाकर कच्छप की पीठ पर लकीर सी खींचते हुए) वे कैसे शोभा दे रहे हैं मानो श्री रामचंद्रजी की सुंदर प्रस्थान यात्रा को परम सुहावनी जानकर उसकी अचल पवित्र कथा को सर्पराज शेषजी कच्छप की पीठ पर लिख रहे हों॥2॥

English: Even the great lord of serpents (Shesh) found himself unable to bear the crushing weight of the belligerent troops and felt dizzy again and again. But each time he would struggle by clutching with his teeth the hard shell of the divine Tortoise. The scratches thus made by his teeth would make one imagine as if, knowing the departure of Shri Ram (the Hero of Raghus line) on His glorious expedition to be a most attractive theme, the serpent-king was inscribing its immortal and sacred story on the Tortoise’s back.
दोहा :

* एहि बिधि जाइ कृपानिधि उतरे सागर तीर।
जहँ तहँ लागे खान फल भालु बिपुल कपि बीर॥35॥
भावार्थ:-इस प्रकार कृपानिधान श्री रामजी समुद्र तट पर जा उतरे। अनेकों रीछ-वानर वीर जहाँ-तहाँ फल खाने लगे॥35॥

English: Continuing His march in this way the All-merciful arrived at the seashore and halted there. The host of valiant bears and monkeys began to guttle fruits all round there.




No comments:

Post a Comment

Archive