रामरूप से जीवमात्र की वंदना




* जड़ चेतन जग जीव जत सकल राममय जानि।
बंदउँ सब के पद कमल सदा जोरि जुग पानि॥7(ग)॥
भावार्थ:-जगत में जितने जड़ और चेतन जीव हैं, सबको राममय जानकर मैं उन सबके चरणकमलों की सदा दोनों हाथ जोड़कर वन्दना करता हूँ॥7 (ग)॥

English: Whatever beings, animate or inanimate, there are in the universe, recognizing them, one and all, as consisting of Sri Rama, I ever adore the lotus feet of all with joined palms.
* देव दनुज नर नाग खग प्रेत पितर गंधर्ब।
बंदउँ किंनर रजनिचर कृपा करहु अब सर्ब॥7 (घ)
भावार्थ:-देवता, दैत्य, मनुष्य, नाग, पक्षी, प्रेत, पितर, गंधर्व, किन्नर और निशाचर सबको मैं प्रणाम करता हूँ। अब सब मुझ पर कृपा कीजिए॥7 (घ)॥

English: I reverence gods, demons, human beings, Nagas, birds, spirits, manes (the souls of departed ancestors) and Gandharvas, Kinnaras and Raksasas (giants).* Pray be gracious to me all on this occasion.
चौपाई :
Chaupai:
* आकर चारि लाख चौरासी। जाति जीव जल थल नभ बासी॥
सीय राममय सब जग जानी। करउँ प्रनाम जोरि जुग पानी॥1॥
भावार्थ:-चौरासी लाख योनियों में चार प्रकार के (स्वेदज, अण्डज, उद्भिज्ज, जरायुज) जीव जल, पृथ्वी और आकाश में रहते हैं, उन सबसे भरे हुए इस सारे जगत को श्री सीताराममय जानकर मैं दोनों हाथ जोड़कर प्रणाम करता हूँ॥1॥

English: Eight million and four hundred thousand* species of living beings, classified under four broad divisions, inhabit land, water and the air. Recognizing the entire creation as full of Sita and Rama, I make obeisance to them with joined palms.


No comments:

Post a Comment

Archive