खल वंदना


Khal Vandana


चौपाई  :
Chaupai :

* बहुरि बंदि खल गन सतिभाएँ। जे बिनु काज दाहिनेहु बाएँ॥
पर हित हानि लाभ जिन्ह केरें। उजरें हरष बिषाद बसेरें॥1॥
भावार्थ:-अब मैं सच्चे भाव से दुष्टों को प्रणाम करता हूँ, जो बिना ही प्रयोजन, अपना हित करने वाले के भी प्रतिकूल आचरण करते हैं। दूसरों के हित की हानि ही जिनकी दृष्टि में लाभ है, जिनको दूसरों के उजड़ने में हर्ष और बसने में विषाद होता है॥1||

English: Again, I greet with a sincere heart the malevolent class, who are hostile without purpose even to the friendly, to whom others’ loss is their own gain, and who delight in others’ desolation and wail over their prosperity.
*हरि हर जस राकेस राहु से। पर अकाज भट सहसबाहु से॥
जे पर दोष लखहिं सहसाखी। पर हित घृत जिन्ह के मन माखी॥2॥
भावार्थ:-जो हरि और हर के यश रूपी पूर्णिमा के चन्द्रमा के लिए राहु के समान हैं (अर्थात जहाँ कहीं भगवान विष्णु या शंकर के यश का वर्णन होता है, उसी में वे बाधा देते हैं) और दूसरों की बुराई करने में सहस्रबाहु के समान वीर हैं। जो दूसरों के दोषों को हजार आँखों से देखते हैं और दूसरों के हित रूपी घी के लिए जिनका मन मक्खी के समान है (अर्थात्‌ जिस प्रकार मक्खी घी में गिरकर उसे खराब कर देती है और स्वयं भी मर जाती है, उसी प्रकार दुष्ट लोग दूसरों के बने-बनाए काम को अपनी हानि करके भी बिगाड़ देते हैं)॥2||

English:  They try to eclipse the glory of Vishnu and Shiva even as the demon Rahu intercepts the light of the full moon (during what is known as the lunar eclipse); and they are valiant like the reputed king Sahasrabahu* (so-called because of his possessing a thousand arms) in working others’ woe. They detect others’ faults as if with a thousand eyes and their (designing) mind mars others’ interests even as a fly spoils clarified butter.
* तेज कृसानु रोष महिषेसा। अघ अवगुन धन धनी धनेसा॥
उदय केत सम हित सबही के। कुंभकरन सम सोवत नीके॥3॥
भावार्थ:-जो तेज (दूसरों को जलाने वाले ताप) में अग्नि और क्रोध में यमराज के समान हैं, पाप और अवगुण रूपी धन में कुबेर के समान धनी हैं, जिनकी बढ़ती सभी के हित का नाश करने के लिए केतु (पुच्छल तारे) के समान है और जिनके कुम्भकर्ण की तरह सोते रहने में ही भलाई है॥3॥

English: In splendour they emulate the god of fire and in anger they vie with the god of death, who rides a buffalo. They are rich in crime and vice as Kubera, the god of riches, is in gold. Like the rise of a comet their advancement augurs ill for others’ interests; like the slumber of Kumbhakaran, their decline alone is propitious for the world.
* पर अकाजु लगि तनु परिहरहीं। जिमि हिम उपल कृषी दलि गरहीं॥
बंदउँ खल जस सेष सरोषा। सहस बदन बरनइ पर दोषा॥4॥
भावार्थ:-जैसे ओले खेती का नाश करके आप भी गल जाते हैं, वैसे ही वे दूसरों का काम बिगाड़ने के लिए अपना शरीर तक छोड़ देते हैं। मैं दुष्टों को (हजार मुख वाले) शेषजी के समान समझकर प्रणाम करता हूँ, जो पराए दोषों का हजार मुखों से बड़े रोष के साथ वर्णन करते हैं॥4॥

English: They lay down their very life in order to be able to harm others, even as hail-stones dissolve after destroying the crop. I reverence a wicked soul as the fiery (thousand-tongued) serpent-god Shesha, in so far as he eagerly expatiates on others’ faults with a thousand tongues as it were.
पुनि प्रनवउँ पृथुराज समाना। पर अघ सुनइ सहस दस काना॥
बहुरि सक्र सम बिनवउँ तेही। संतत सुरानीक हित जेही॥5॥
भावार्थ:-पुनः उनको राजा पृथु (जिन्होंने भगवान का यश सुनने के लिए दस हजार कान माँगे थे) के समान जानकर प्रणाम करता हूँ, जो दस हजार कानों से दूसरों के पापों को सुनते हैं। फिर इन्द्र के समान मानकर उनकी विनय करता हूँ, जिनको सुरा (मदिरा) नीकी और हितकारी मालूम देती है (इन्द्र के लिए भी सुरानीक अर्थात्‌ देवताओं की सेना हितकारी है)॥5॥

English: Again, I bow to him as the celebrated king Prithu (who prayed for ten thousand ears in order to be able to hear the glories of the Lord to his heart’s content) inasmuch as he hears of others’ faults with the thousand ears as it were. Once more do I supplicate to him as Indra (the lord of celestials) in so far as wine appears charming and beneficial to him (even as the army of gods is beneficent to Indra).
*  बचन बज्र जेहि सदा पिआरा। सहस नयन पर दोष निहारा॥6॥ 
भावार्थ:-जिनको कठोर वचन रूपी वज्र सदा प्यारा लगता है और जो हजार आँखों से दूसरों के दोषों को देखते हैं॥6॥

English: Harsh language is dear to him even as the thunderbolt is fondly cherished by Indra; and he detects others’ faults with a thousand eyes as it were.

दोहा  :
Doha :
* उदासीन अरि मीत हित सुनत जरहिं खल रीति।
जानि पानि जुग जोरि जन बिनती करइ सप्रीति॥4॥
भावार्थ:-दुष्टों की यह रीति है कि वे उदासीन, शत्रु अथवा मित्र, किसी का भी हित सुनकर जलते हैं। यह जानकर दोनों हाथ जोड़कर यह जन प्रेमपूर्वक उनसे विनय करता है॥4॥

English: The wicked burn with jealousy as they hear of others’ welfare, be they his friends, foes or neutrals: such is their wont. Knowing thus, this humble soul makes loving entreaties to them with joined palms.
चौपाई :
Chaupai:
*  मैं अपनी दिसि कीन्ह निहोरा। तिन्ह निज ओर न लाउब भोरा॥
बायस पलिअहिं अति अनुरागा। होहिं निरामिष कबहुँ कि कागा॥1॥
भावार्थ:-मैंने अपनी ओर से विनती की है, परन्तु वे अपनी ओर से कभी नहीं चूकेंगे। कौओं को बड़े प्रेम से पालिए, परन्तु वे क्या कभी मांस के त्यागी हो सकते हैं?॥1॥

English: However fondly you may nurture a brood of crows, can you ever expect ravens to turn vegetarians?


No comments:

Post a Comment

Archive